Browsed by
Author: authorashwini

Book Review: The Monk (Akshay Shroff)

Book Review: The Monk (Akshay Shroff)

Title: The Monk Author: Akshay Shroff Genre: Crime Thriller Publisher: Gargi Publishers Chapters: 14 Pages: 217 Price: INR 195.00 ISBN: 978-93-84382-16-2 Rating: 5.0/5.0   Book Review The Monk is a story of a young boy Lakshay Gaitonde, a wannabe cricketer, who loses his father at an early age. Deeply touched with the incident, his tender mindset goes through a traumatic transformation which prompts him to bid adieu to his dream of sportsmanship. The story of the fiction has been beautifully yarned in the backdrop of serial bomb blasts that…

Read More Read More

Pre-Order Starts for Barista Bollywood

Pre-Order Starts for Barista Bollywood

Launch of much appreciated contemporary fiction Barista Bollywood authored by Ashwini Bagga is expected in the first week of August 2017. Published under the flagship of Himanshu Publications, New Delhi the book has been listed for pre-order on Amazon and Flipkart. The grand launch of the book, most probably, will be organized in Jaipur and later allied events related to the promotion of the will be organized across all major cities in the country as revealed by Mr. Bagga to…

Read More Read More

Book Review: The Justified Sin (Harpreet Makkar)

Book Review: The Justified Sin (Harpreet Makkar)

Title: The Justified Sin Author: Harpreet Makkar Genre: Fiction Publisher: Petals Publishers Chapters: 26 Pages: 200 Price: INR 150.00 ISBN: 978-93-85385-00-1 Rating: 3.5/5.0   Book Review The Justified Sin is the debutant novel penned down by engineer turned author Harpreet Makkar hailing from Ludhiana, Punjab. The title and the book cover are definitely appealing as it arouses reader’s interest. The due reasons are enough that proffers a niche into reader’s bookshelf. But, someone has rightly said that book should not be judged by its cover. Though, this is…

Read More Read More

Book Review: Hidden Husband (Shikha Kaul)

Book Review: Hidden Husband (Shikha Kaul)

Title: Hidden Husband Author: Shikha Kaul Genre: Fiction/Contemporary Publisher: Gargi Publishers Chapters: NA Pages: 239 Price: INR 195.00 ISBN: 978-93-84382-07-0 Rating: 4.0/5.0 Book Review I would always tell him, “The earth is round. If you stand at the South Pole, it doesn’t mean you are upside down, neither are you on top of the world at the North Pole. You will still remain the same and the earth treats you no differently. So stay grounded. Your places can change, and so can time.” The above paragraph is…

Read More Read More

Book Review: Ready Steady Exit (P C Balasubramanian)

Book Review: Ready Steady Exit (P C Balasubramanian)

Title: Ready Steady Exit Author: P. C. Balasubramanian Genre: Fiction/Contemporary Publisher: Srishti Publishers & Distributors Chapters: NA Pages: 172 Price: INR 120.00 ISBN: 978-93-82665-40-3 Rating: 4.0/5.0 Book Review This is no doubt a mini fiction carved by P.C. Balasubramanian a Chartered Accountant by profession hailing from Chennai. The title itself reveals the entire story line of the book, yet the author has well tried to put the literary elements into an overall commercial epic turning it into a good read. The book is perfect to enjoy for a…

Read More Read More

ग़ज़ल 011 – जिंदगी जब भी

ग़ज़ल 011 – जिंदगी जब भी

जिंदगी जब भी तुझको पुकारा है तूने हर बार आने से नकारा है। ऐसी क्या ख़ता हो गई हैै हमसे यूं जुल्म ढाना तुमको गंवारा है। बनता है कोई तिनके का सहारा गरजते तूफां सा तूने ललकारा है काँचता सा है बीते लम्हों का सच जो बच गया है हिस्सा हमारा है। रात चाँदनी का साया जो छाता है याद वही शख्स आता दोबारा है। ~~ अश्विनी बग्गा ~~

ग़ज़ल 010 – जिंदगी से चाहिए

ग़ज़ल 010 – जिंदगी से चाहिए

जिंदगी से चाहिए जो वो कभी मिलता नहीं साथ थे जिस गैर के साथ वो चलता नहीं। जिंदगी है जुस्तजु या फिर कोई अहसान है साँसें देती है सबक पर सिला मिलता नहीं। हर ख़याल है अंधेरा और बस कुछ भी नहीं रोशनी का जादू भी मुझ पे अब चलता नहीं। मेरे जज़्बातों की कीमत.. क्यों न रखी आपने फैसले में बाँधा ऐसा लब तलक हिलता नहीं। ज़ख्म इतने मिल चुके हैं.. कुछ पुराने हो चुके फिर कुरेदा है इन्हें………

Read More Read More

ग़ज़ल 009 – बस्तियाँ

ग़ज़ल 009 – बस्तियाँ

बस्तियाँ हैं. पर घर नहीं है अब ज़माने से डर नहीं है। यूँ कहने को… सफर कई हैं पर चलने को डगर नहीं है। इसमें किसी की क्या ख़ता है शब ही शब है.. सहर नहीं है। नाहक कब से से माँग रहे है किसी दुआ में असर नहीं है। दिल से याद हैं करते हरदम लेकिन उनको खबर नहीं है। ~~ अश्विनी बग्गा ~~

ग़ज़ल 008 – पराया

ग़ज़ल 008 – पराया

साया भी जिंदगी से सताया सा लगता है तन्हाई से मिलकर कतराया सा लगता है। साँस भी घर अपने ज़रा देर से आती है रास्ते में मौत ने…. डराया सा लगता है। अपने दर, दरीचे, दरवाजे़ पहचानते नहीं हैं अपना दीवारों दर भी पराया सा लगता है। बड़ी मुद्दतों बाद….. कोई घर आया है कोई पुराना कर्ज़ बकाया सा लगता है। अब इन दिल के पुरज़ों का क्या हिसाब दूँ अपने किए पर वो पछताया सा लगता है। ~~ अश्विनी…

Read More Read More

ग़ज़ल 007 – कल रास्तों में

ग़ज़ल 007 – कल रास्तों में

कल रास्तों में गम.. के साये होंगे आज अपने हैं तो कल पराये होंगे। ख्वाब में क्या देखकर मुस्कुराते हैं फ़क़त नींदों में खौफ.. खाए होंगे। इस जमाने के कर्ज़दार. बन गए अब मांगने वाले सर उठाये होंगे। फैसले पर हौसले.. काबिज़ हो चले कहीं रात फिर जाम छलकाये होंगे। देखिये क्या सिला मिला ज़िन्दगी से क्या सोच कर ये दिन दिखाये होंगे। ~~ अश्विनी बग्गा ~~